12.6.20

कोरोना महामारी के नाम पर जनमानस को डराया जा रहा है और जनता से लूट खसोट की जा रही है ....

कोरोना वायरस को महामारी बता कर लोगों को डराया जा रहा है और एक अखबार के अनुसार मुंबई, देहली, राजस्थान आदि में कोरोना के इलाज हेतु निजी हॉस्पिटलों के द्धारा प्रतिदिन एक लाख रुपये और पीपीई किट के लिए आठ से नौ हजार तक मांगे जा रहे हैं । किसी मरीज से एक लाख तो किसी मरीज से पंद्रह दिन तक इलाज करने के नाम पर 15 लाख रूपये तक वसूल किये जा रहे हैं जैसे सरकारों ने कोरोना का इलाज करने की आड़ में निजी हॉस्पिटलों को लूट करने की आजादी दे दी हैं ।

दूसरे गंभीर रोग दमा साँस और अन्य बीमारियों से मरने वाले लोगों की संख्या को कोरोना संक्रामक बीमारी से मरने वालों की संख्या में जोड़ कर बढ़ा चढ़ा कर बताया जा रहा है और लोगों को कोरोना महामारी के नाम पर भयभीत किया जा रहा है और निजी हॉस्पिटलों को लूटने का मौका दिया जा रहा है ।

मेरी भतीजी की मित्र की एक बहिन पायलट है जो कोरोना वायरस से ग्रसित हो गई थी उसे देहली में बेड की कमी का बहाना बता कर हॉस्पिटल में भर्ती नहीं किया जा रहा था और जब उसने कहा कि मुझे भर्ती कर लो जितना पैसा चाहिए तो वह भुगतान करने तैयार है तो उससे एक लाख की मांग की गई और उसे बेड उपलब्ध कराया गया और उसका इलाज उस हॉस्पिटल द्धारा शुरू किया गया । उसे गर्म पानी पीने को दिया जाता था और काढ़ा पीने को दिया जाता था और विक्स की भाप उसे दी जाती थी तदोपरांत उसे डिस्चार्ज कर दिया गया साथ ही उसे यह हिदायत दी गई थी कि वह गर्म पानी का सेवन करें साथ ही उसे प्रतिदिन काढ़ा पीने की सलाह दी गई ।

कोरोना कोई गंभीर महामारी नहीं है यह सर्दी खांसी की तरह का रोग है और इसके वायरस नष्ट किये जा सकते हैं । कोरोना बीमारी से बीमार हो जाने पर डरने की जरुरत नहीं हैं आप भी इससे बच सकते हैं । आप कालमेघ, अश्वगंधा, दालचीनी, हल्दी, कालीमिर्च, अदरक और तुलसी आदि का मिश्रण तैयार कर खुद काढ़ा बना सकते हैं और इसको उपयोग करने से आप कोरोना वायरस से मुक्त हो सकते हैं साथ गर्म पानी के साथ हल्दी का सेवन करें और विक्स की भाप लेते रहें । मास्क का उपयोग करें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें निसंदेह आपको कोरोना वायरस कभी नहीं होगा और आप इस महामारी से मुक्त हो सकते  ।

सरकार को चाहिए कि कोरोना महामारी के नाम पर निजी हॉस्पिटलों के द्धारा जो लूट खसोट की जा रही है उस पर गंभीरता के साथ कठोर कार्यवाही करें जिससे आम जनमानस लुटने से बच सकें ।             

11.5.20

समय का समयानुसार सदुपयोग करें ...

समय ही जीवन है और जीवन ही समय है और ये एक दूसरे के पूरक हैं । समय की महिमा एवं मर्यादा में जीवन के सभी रहस्य जुड़े होते हैं । यदि इन दोनों को एक दूसरे अलग थलग कर दिया जाए तो जीवन की कल्पना करना असंभव है । समय के सदुपयोग से ही जीवन का अर्थ प्रगट होता है । मानव जीवन में जन्म के साथ समय हमें जीवन में वरदान के रूप में मिला है । किसी ने कहा है कि समय एक तरह से भौतिक राशि की तरह होता है ।  प्रत्येक क्षण मानव जीवन के लिए अति महत्वपूर्ण होता है और यदि समय का जीवन में सदुपयोग न किया जाए तो हमारा जीवन निरर्थक है और हमें जीवन में कोई विशेष उपलब्धि प्राप्त नहीं होती है और हम कुछ विशेष कार्य भी नहीं कर पाते हैं । जैसे जैसे समय व्यतीत होता है तो घटनाएं भी घटित होती हैं एवं समय के साथ जीवन में समयचक्र भी बदलता रहता है ।

समय को काल भी कहा जाता है अर्थात सबको अपने में समाहित कर लेने वाली ही सर्वोपरि सत्ता है । यदि समय के साथ न चलें और समय का सदुपयोग न करें तो हमारा जीवन निर्रथक है । भगवान श्री कृष्ण कहते हैं कि मैं काल हूँ और काल से बड़ा कोई नहीं है , काल अर्थात समय से परे कोई नहीं है । जब समय/काल समाप्त हो जाता है तो वहां कुछ भी नहीं किया जा सकता है ।

जहाँ समय होता है वहां बहुत कुछ किया भी जा सकता है । जहाँ समय होता है वहाँ असीम संभावनाएं भी होती है और बहुत कुछ करने के अवसर भी प्राप्त होते हैं । समय को हम अच्छा या बुरा भी नहीं कह सकते हैं और जो समय की पहचान कर लेता है और समय के अनुरूप पुरषार्थ करता है वह सदैव सफल होता है और जो समय को पहचान नहीं पाता है वह हमेशा अपने कार्यों में असफल ही होता है ।

यदि समय हमारे हाथ से फिसल गया तो हम बहुत कुछ खो बैठते हैं । हमारे बुजुर्ग भी कहते हैं कि जो सोवे तो वो खोवे , जागो और समय के साथ पुरषार्थ करो और जीवन में कुछ अच्छा करो । जो सोकर अपना समय नष्ट करता है वह आगे जाकर अपने जीवन में कोई विशेष कार्य नहीं कर पाता है और उसे कोई विशेष उपलब्धि भी प्राप्त नहीं होती है । खोया समय दुबारा कभी लौटकर नहीं आता है,  इसीलिए कहा जाता है कि समय के साथ चलना सीखो । क्षण में जीवन है और क्षण में मृत्यु भी है ।  क्षण सफलता है तो क्षण में असफलता भी है । समय ही हमारी हार और जीत को सुनिश्चित करता है ।

विषम समय में आलसी और डरपोक लोग घबराते है और साहसी व्यक्ति विषम समय में पुरषार्थ कर सर्वश्रेष्ठ कार्य कर लेते है । उचित समय को पहचान कर प्रतिकूलताओं को अनुकूलता में परिवर्तित किया जा सकता है । जो बर्तमान समय की पहचान नहीं कर पाते है अथवा समय को सम्मान देना नहीं जानता हैं वे जीवन में कभी सफल नहीं हो पाते है और उन्हें हर समय असफलता का सामना करना पड़ता है । सामान्य जीवन में बहुत महत्वपूर्ण कार्य किये जा सकते हैं इसके लिए समय के उचित प्रबंधन की आवश्यकता होती है । अपनी आवश्यकता और अपने उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए अपनी दिनचर्या को व्यवस्थित करना बहुत जरुरी है । जीवन में समय प्रबंधन की बहुत बड़ी भूमिका होती है । समय के साथ कार्य की प्राथमिकतायें यदि निर्धारित कर ली जाएँ तो यही जीवन की सच्ची सार्थकता होगी । 

7.5.20

कर्तव्यपालन ही मनुष्य का सबसे बड़ा धर्म और संपदा है ...

स्वतंत्रता के लिए लगातार संघर्ष कर रहे महाराणा प्रताप जंगलों और पहाड़ों में अपने छोटे से परिवार के साथ इधर उधर मारे मारे फिर रहे थे । एक दिन ऐसा आया कि उनके पास खाने की सामग्री भी नहीं बची थी । एक दिन पास में जो अनाज बचा था जिसे उनकी धर्म पत्नी ने पीसकर रोटियां बनाई उसे वनबिलाव उठा कर ले गया और उनके पास खाने के लिए कुछ भी नहीं बचा था । भूख प्यास से व्याकुल होकर उनकी छोटी बच्ची रोने लगी । इस स्थिति को देखकर महाराणा प्रताप का साहस टूटने लगा  और वे अत्यधिक परेशान हो गए और उनके मन में एक विचार आया क्यों न शत्रु से संधि कर ली जाए और सुख चैन की जिंदगी गुजर बसर करें ।

उनका साहस और मनोबल टूटते देख कर उनकी धर्मपत्नी ने महाराणा प्रततप को समझाया कि हे नाथ कर्तव्यपालन  मानव जीवन की सबसे बड़ी संपदा है इसे किसी भी तरह हर हाल में किसी भी मूल्य पर छोड़ना नहीं चाहिए । सच्चे मनुष्य न आघातों से और न कष्ट होने पर घबराते नहीं हैं और उन्हें कर्तव्यपालन करने का ध्यान होता है । हे नाथ आप इस विपरीत परिस्थति में बिलकुल न घबराएं । जीवन में सुख और दुख के अनेकों अवसर आते हैं फिर आप इस तरह की बात क्यों कर रहे हैं ।

धर्मपत्नी की बात सुनकर महाराणा प्रताप का उदास चेहरा फिर से चमकने लगा और उन्होंने अपनी पत्नी की सलाह मान ली ।  महाराणा प्रताप ने पत्नी से कहा कि तुच्छ जीव भी सुविधा का जीवन जी लेते हैं पर कर्तव्य की कसौटी पर महान व्यक्ति  ही कैसे जाते हैं । परीक्षा की इस घड़ी में हमें भी खोटा नहीं खरा उतरना होगा । महाराणा प्रताप जंगल में गए और खाने के लिए दूसरा आहार खोज कर लाएं । इस संकट की घड़ी में बाद में भाभाशाह सामने आये और उन्होंने मुगलों से युद्ध करने के लिए काफी धन महाराणा प्रताप को दिया । महाराणा प्रताप दुगुने उत्साह के साथ फिर अपनी सेना को जुटाने में लग गए।