26.6.10

महफ़िल प्यार की याद आती है....

महफ़िल सितारों की... देख कर,

महफ़िल प्यार की याद आती है.

फलक में प्यारे चाँद को देख कर,

इस दिल को उनकी याद आती है.
 
000

16 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

वाह मिश्र जी, बहुत खूब!

M VERMA ने कहा…

यादों को तो बहाना चाहिये
सुन्दर

Sunil Kumar ने कहा…

short and sweet

अजय कुमार ने कहा…

यादों की मस्ती---

अजय कुमार ने कहा…

यादों की मस्ती---

अजय कुमार ने कहा…

यादों की मस्ती---

वन्दना ने कहा…

sundar rachna.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

हम बादलों से कहेंगे, चाँद छिपा ले कहीं,
तेरी यादों को बहला देता है, निकलना चाँद का ।

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत खुब सुरत लगी आप कि यादो की मस्ती जी

राजकुमार सोनी ने कहा…

कमाल की रचना। अच्छा लगा।

गिरीश बिल्लोरे ने कहा…

आज़ गुरु छोटी किंतु ग़ज़ब पोस्ट वाह वाह

मनोज ने कहा…

बढियाँ, उमंग से भरा ||

Rahul Singh ने कहा…

सहेज कर रखिए इस याद को.

रामपुरी सम्राट श्री राम लाल ने कहा…

हमारा एक छोटा सा प्रयास है इन्टरनेट पर उपलब्ध हास्य व्यंग लेखो को एक साथ एक जगह पर उपलब्ध करवाने का,

सभी इच्छुक ब्लोगर्स आमंत्रित है


हास्य व्यंग ब्लॉगर्स असोसिएशन सदस्य बने

ZEAL ने कहा…

touching lines !

somali ने कहा…

baht khub