12.9.08

यारो हसरते बुलंद जीवन जीने का हौसला देती है-

तेरी चाहत के सिवा अब कोई मुझे चाहत नही
हमें तेरी मोहब्बत के आगे फ़िर कोई आरजू नही.

तुझे पाने के सारे रास्ते बंद हो गए है अपने आप
अब कोई रास्ता बचा नही है सिवाय इबादत के.

अगर दिल मिले या न मिले तड़फ रहना चाहिए
कुछ महक इस दिल की वीराने में रहना चाहिए.

जिंदगी का सफर अब सजाया संवारा जाए यारो
किसी हमसफ़र साथी को दिल से याद किया जाए.

इंतजार के बाद कभी तुम्हारा कोई पैगाम आया
यूँ मुझे लगा मानो कोई खुशियो का सैलाब आया

जब उस चमन से तुम्हारी जुल्फे लहराती निकली
मानो कोई काली घटा बल खाके निकल गई ...

यारो हसरते बुलंद जीवन जीने का हौसला देती है
यारब यदि जुदा हो जाए तो कसक रहना चाहिए.

3 टिप्‍पणियां:

मुकेश कुमार मिश्र ने कहा…

वाह.. क्या रचना है...

श्रद्धा जैन ने कहा…

wah josh dilati hui rachna
bhaut dino bad aapko is roop main padha bhiyaa bhaut achha laga

seema gupta ने कहा…

यारो हसरते बुलंद जीवन जीने का हौसला देती है
यारब यदि जुदा हो जाए तो कसक रहना चाहिए.
" wah, kya abheevyktee hai , shabd chayan bemeesal"

Regards