13.9.08

आओ खुल गई है टिप्पणी कार्नर की भारी भरकम दुकान अब आपके शहर में

डुग डुग डुग डुग डुग

डुग डुग डुग डुगडुगी बज रही है और डुगडुगी बजाने वाला भारी आवाज में जोर जोर से चिल्ला कर कह रह है आओ आओ अब खुल गई "टिप्पणी कार्नर" की भारी भरकम दूकान अब आपके शहर में.

मुन्ना भी आओ मुन्नी भी आओ कालू भी आओ और लालू भी मिंटू पिंटू भी आओ और सिंटू भइया भाई आओ अब टिप्पणी के लिए अब निराश होने की जरुरत नही है अब ब्लॉगर भाई बहिन और नवब्लागर ध्यान दे कि वे पोस्ट लिखते है तो उनकी पोस्ट को टिप्पणी नही मिलती है या वे खूब दूसरो को खूब टिप्पणी देते है पर उन्हें कोई टिप्पणी नही देता है बस अब आज से कही जाने की जरुरत नही है अब आपको सब कुछ टिप्पणी कार्नर की छ त के नीचे मिल जावेगा और न कही भटकने की जरुरत है .

डुग डुग डुग डुग डुग

कभी आओ तो हमारे मशहूर "टिप्पणी कार्नर" में आये और तरह तरह की देशी विदेशी छोटी बड़ी मझौली लम्बी गोरी कारी कलूटी टिप्पणी देखे . हमारे यहाँ "टिप्पणी कार्नर" में ग्राहकों के लिए छोटे बड़े ब्लागरो की टिप्पणियो को सहेज कर फ्रिज में रखा जाता है आप यहाँ उनका स्वाद ले सकते है और यदि आपको टिप्पणी पसंद आये तो कापी कर पेस्ट कर सकते है.

डुग डुग डुग डुग डुग

हमारे टिप्पणी कार्नर में में पुरानी घटिया टिप्पणी की खरीद भी की जाती है और बदले में पुरानी टिप्पणी को नया जामा पहिनाकर ग्राहकों की खास फरमाईस पर ब्लॉग की प्लेट में परोसकर पेश की जाती है . एक टिप्पणी के बदले दो और चार टिप्पणी के बदले बहुत बड़ी टिप्पणी दी जाती है यदि आपको पुरानी पसंद आये तो आप पुरानी टिप्पणी खरीद सकते है .

हमारे यहाँ नए ब्लागरो को पुराने ब्लागरो की टिप्पणी बाक्स में से टिप्पणी हैक करने की ट्रेनिंग दी जाती है .और एक धंटे में १०० ब्लागों को जल्दी जल्दी टिप्पणी प्रेषित करने की मेगा ट्रेनिंग दी जाती है जैसे किसी ब्लॉग का टिप्पणी बाक्स खोलकर देखे फ़िर किसी की टिप्पणी की कापी कर तुंरत अपने नाम से टिप्पणी प्रेषित कर दे आदि . टिप्पणी डिजाइनिंग की ट्रेनिंग में महारत हासिल विशेषज्ञों की सेवाए चौबीसो घंटे आप प्राप्त कर सकते है . गरम टीप ठंडी टीप लिखने की विशेष ट्रेनिंग दी जाती है .

डुग डुग डुग डुग डुग

हर साइज की टिप्पणी के रेट अलग अलग है आप अपनी जेब की अहमियत के अनुसार टिप्पणी खरीद सकते है.

डुग डुग डुग डुग डुग

सुनो सुनो त्योहारों पर कुछ खास आफर सिर्फ़ हमारे "टिप्पणी कार्नर"में

एक टिप्पणी दो और बदले में चार टिप्पणी ले जाओ यह बम्फर मेगा छूट सिर्फ़ दिवाली तक ही है अतः जल्दी आवे और जल्दी पावे नही तो बहुत पछतायेंगे.

रिमार्क- ग्राहकों की मांग पर बम्फर मेगा छूट की सीमा बढाई जा सकती है

डुग डुग डुग डुग डुग

व्यंग्य

18 टिप्‍पणियां:

दिनेशराय द्विवेदी ने कहा…

कोई डाक सेवा भी है क्या। मेरा मतलब पत्राचार पाठ्यक्रम?

seema gupta ने कहा…

" sir, muje bhee register krvana hai..... discount bhee avail krna hai"

Regards

प्रवीण त्रिवेदी...प्राइमरी का मास्टर ने कहा…

अरे भइया ! बड़ी अच्छी स्कीम चलायी है । शायद क्या अब तो निश्चित ही चिट्ठों की संख्या दिन दुनी रात चौगुनी बढेगी। वैसे मास्टरी तो छोड़ने से रहा , अगर द्विवेदी जी के लिए पत्राचार सुविधा शुरू करें तो हमें भी बताइयेगा।
नहीं तो सीधे -सीधे रेट बता दीजिये , घर बैठे पाने का !
हमारे शिक्षा व्यवस्था में तो यह चलन आ ही गया है।

Hari Joshi ने कहा…

भैय्या डिस्काउंट की जरूरत तो तब पड़ेगी जब उड़ कर टिप्पढियां आनी बंद हो जाएंगी।
अच्छा व्यंग्य।

राज भाटिय़ा ने कहा…

टिपण्णी वाले भईया क्या एक महीने की टिपण्णियो का ठेका करो गे, लेकिन पहुचानी भी आप को ही पडेगी.
धन्यवाद

शोभा ने कहा…

वाह वाह! क्या बात है. हास्य के सहारे आपने सच बयान किया है किंतु मैं बस इतना ही कहना चाहूंगी की अगर ऐसा लिखा जाए तो टिपण्णी तो देनी ही पड़ेगी ना . सस्नेह.

जितेन्द़ भगत ने कहा…

भाई साहब, मैंने आपके बगल में ही 'पोस्‍ट कॉर्नर' की हल्‍की-फुल्‍की दुकान खोली थी, पर माल बि‍का नहीं। क्‍या आपकी दुकान पर कुछ काम मि‍ल जाएगा?

Udan Tashtari ने कहा…

पार्टनर बना लो, खूब ठेके लो..बाकी तो हम हईये हैं. :)

डॉ .अनुराग ने कहा…

झकास है भाई ...डुगडुगी की आवाज तेज है...

ई-गुरु राजीव ने कहा…

भइया एक पाव अंग्रेज़ी वाला दे दो.

दीपक भारतदीप ने कहा…

मगर में किसी भी व्यंग्य को मजाक में नहीं लेता। बहुत गंभीर हो गया हूं। जरूर इस पर कुछ लिखूंगा।
दीपक भारतदीप

MANVINDER BHIMBER ने कहा…

बड़ी अच्छी स्कीम चलायी है । शायद क्या अब तो निश्चित ही चिट्ठों की संख्या दिन दुनी रात चौगुनी बढेगी। अच्छा आईडिया है....जारी रखें

GIRISH BILLORE MUKUL ने कहा…

guru
chhaa gae
sabako lubha gae

विवेक सिंह ने कहा…

अच्छा व्यंग्य है पढ कर आनन्द आ गया . गम्भीर होना पडेगा क्या ?

डा. अमर कुमार ने कहा…

.


अमर-शिव टिप्पणी बैंक डकैती का सुराग ढूँढ़ते हुये,
लगता है... सही जगह मिला है.. तहकीकात किये बिना ब्रेकिंग न्यूज़ कैसे बना दूँ, कि..
" टिप्पणी बैंक डकैती का हुआ पर्दाफ़ाश... इसमें कई बड़े नामों के शामिल होने की संभावना.. " सरगना दिनेश व समीर भी यहाँ मौज़ूद हैं..
सो अब एक स्टिंग प्रायोजक भी ढूँढ़ना पड़ेगा,
इसके लिये !

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बधाई ! बेहतरीन दूकान लगाई है ! हमारे शहर
में भी एक शो रूम की फ्रेंचाइजी देंगे क्या ?

Arvind Mishra ने कहा…

बढियां है भाई !

Shastri ने कहा…

"ग्राहकों की मांग पर बम्फर मेगा छूट की सीमा बढाई जा सकती है"

रेट के बारे में सूचना प्रेषित करे!!



-- शास्त्री जे सी फिलिप

-- समय पर प्रोत्साहन मिले तो मिट्टी का घरोंदा भी आसमान छू सकता है. कृपया रोज कम से कम 10 हिन्दी चिट्ठों पर टिप्पणी कर उनको प्रोत्साहित करें!! (सारथी: http://www.Sarathi.info)