1.10.08

जोग टाइम : मस्ती भरे ठिलठिले .....

जोग टाइम : मस्ती भरे ठिलठिले .....

एक टीचर अपने छात्रों को पढ़ा रहा था उसी बीच एक छात्र ने पूछा
सर आदमियो की मूंछे क्यो होती है ?
मास्साब बड़े चक्कर और उलझन में पड़ गए कि अब क्या जबाब दे
बोले यह प्रकृति का नियम है कि आदमी की मूंछे होती है . तब छात्र
बोला सर मै बताता हूँ कि आदमी की मूंछे क्यो होती है .
जिस प्रकार हम लिखते है और कोई महत्वपूर्ण चीज को अंडर लाइन
कर देते है . ठीक उसी प्रकार आदमी की नाक बड़ी महत्वपूर्ण होती है
इसीलिए भगवान ने मूंछे बनाकर नाक को अंडर लाइन कर दिया है .
....................

पुत्र माँ से - दे ख माँ जब मै पैदा न हुआ था तब तू ने मुझे देखा नही
था .
माँ - हाँ बेटा
पुत्र - तब तुमने मुझे पहचाना कैसे ?
..............

पुत्र - पिताजी एक मूंछो वाला व्यक्ति बाहर खड़ा है .
पिता - जाकर उससे कह दो हमें मूंछो की जरुरत नही है .
..............

टीचर - दो शादी करने के क्या परिणाम होते है ?
छात्र - एक समय में दो मालिको के आदेश माने नही जा सकते है .

................

7 टिप्‍पणियां:

सचिन मिश्रा ने कहा…

Bahut khub.

जितेन्द़ भगत ने कहा…

wah , maza aa gaya mishra ji.

Nitish Raj ने कहा…

हा हा हा हा बहुत खूब महेंद्र जी

राज भाटिय़ा ने कहा…

महेन्दर जी क्या बात हे, बहुत खुब मजा आ गया
धन्यवाद

Anil Pusadkar ने कहा…

मज़ा आ गया।

Anil Pusadkar ने कहा…

मज़ा आ गया।

bavaal ने कहा…

हा हा हा बड़े मज़ेदार चुटकुले थे पंडितजी.