6.5.09

जब इंटरनेट मददगार साबित हुआ और अपनी बीबी की उसने डिलेवरी करवा दी ?

जब से दुनिया में सूचना क्रांति का आगाज हुआ तबसे लोग बाग़ इससे होने वाले फायदों और लाभदायक होने के कारण इसमें जबरजस्त रूचि लेने लगे है . दुनिया में होने वाली किसी भी घटना व कार्यक्रमों को पलक झपकते ही आप नेट पर देख सकते है. यह क्रांति उन मौके पर भी काम आ सकती है जिसके बारे में आप कल्पना भी नहीं कर सकते है. आज ऐसा ही रोचक वाक्या एक अखबार में पढ़ा है कि इस क्रांति के माध्यम से तात्कालिक लाभ प्राप्त किया जा सकता है.

लन्दन में रहने वाले एक शख्स उनका नाम है मार्क स्टीफंस जो नेवल में इंजिनियर है उन्होंने इंटरनेट की मदद से जानकारी प्राप्त कर खुद अपनी बीबी की चौथी डिलेवरी करवा दी. अब आपको लग रहा होगा कि कोई व्यक्ति इंटरनेट की मदद से अपनी बीबी की डिलेवरी कैसे करवा सकता है. मार्क स्टीफंस की पत्नी की चौथी डिलेवरी होने वाली थी. कुछ दिनों उनकी पत्नी को पेट दर्द हुआ और उस समय उसको काफी तकलीफ हुई.

मार्क स्टीफंस अपनी पत्नी को लेकर फौरन हॉस्पिटल लेकर गए और इसी दौरान उन्हें जानकारी मिली कि उस हॉस्पिटल में कोई भी मिडवाइफ उपस्थित नहीं है तो फौरन उन्होंने गूगल सर्च पर जाकर यूं टूयूब से कुछ ऐसे वीडियो खोजे जिनमे वीडियो/फोटो के माध्यम से यह दिखाया गया था कि बच्चे को कैसे जन्म दिया जाता है. स्टीफंस साहब ने दर्द से कराहती अपनी पत्नी को एक दिखाया और अपनी बीबी की चौथी डिलेवरी करवा दी.

जन्म देने के बाद उसकी पत्नी ने लोगो को बताया कि यह डिलेवरी काफी सुखदायक और आरामदायक थी और इसमें मुझे कोई तकलीफ नहीं हुई और न कोई कष्ट हुआ और उसे डिलेवरी के दौरान कोई टेशन नहीं था. इसके पहले उसके तीन बच्चे हुए. तीनो बच्चो की डिलेवरी के दौरान उसे काफी कष्ट और तकलीफ हुई थी.

वास्तव में सूचना क्रांति के आने से सभी को काफी फायदे मिल रहे है और आप मनचाही जानकारी तुंरत इंटरनेट पर प्राप्त कर सकते है और अपनी समस्या का निराकरण भी कर सकते है और सूचनाओं का आदान प्रदान मिनिटो में कर सकते है और तात्कालिक लाभ प्राप्त कर सकते है. सूचना क्रांति के माध्यम से लोग कैसे कैसे तात्कालिक लाभ प्राप्त कर रहे है यह उसका एक जीता जागता उदाहरण है जिसके बारे में हम और आप कल्पना भी नहीं कर सकते है.

रिमार्क - अंश एक अखबार से साभार.

10 टिप्‍पणियां:

Gagan Sharma, Kuchh Alag sa ने कहा…

यह तो विज्ञान का वरदान है।
फायदेमंद है या नुक्सान दायक यह निर्भर करता है, उपयोग के ऊपर।

विनय ने कहा…

विज्ञान का वरदान है और क्या कहें

---
चाँद, बादल और शाम

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey ने कहा…

वाह इंटरनेट जीवन के सब संस्कारों में उपयोगी है। गर्भाधान से ले कर दाह संस्कार तक!

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

वाकई यह खबर है .

P.N. Subramanian ने कहा…

किसी भी विषय की अच्छी से अच्छी जानकारी अंतरजाल के माध्यम से प्राप्त की जा सकती है. अपने आपको अपने चयनित विषय में अद्यतन रखा जा सकता है. यह सबसे बड़ी देन है.

Udan Tashtari ने कहा…

इन्टरनेट क्रांति का जीता जागता उदाहरण.

Mired Mirage ने कहा…

सच में नेट बहुत उपयोगी है।
घुघूती बासूती

आदित्य ने कहा…

असरदार ख़बर ,मार्क स्टीफंस एक शानदार हसबेंड ,और अब आप जानदार पत्रकार भी हो गए हैं । बिलाशक यह ख़बर प्राइज़लेस हैं । अब आपकीहार हर गतिविधी का स्वागत हैं ।
साधुवाद

mahashakti ने कहा…

वाह, बहुत दूर तक पहुँच रहा है इन्‍टरनेट

vandana ने कहा…

yahi to internet kranti hai.