19.8.09

एक तुम्ही आधार सदगुरु......एक तुम्ही आधार

हे सदगुरु जब तक न तुम न मिलो इस जीवन में
शांति कहाँ मिल सकती है भटकते अतृप्त मन में.

खोजा फिरा संसार सदगुरु एक तुम्ही आधार सदगुरु
कैसा भी तारन हारा मिले न जब तक शरण सहारा.

प्रभु तुम ही विविध रूपों में हमें बचाते भाव कूपो से
ऐसे परम उदार सदगुरु एक तुम्ही हो आधार सदगुरु.

छा जाता जग में अँधियारा तब पाने प्रकाश की धारा
आते है तेरे द्वार सदगुरु एक तुम्ही आधार हो सदगुरु.

हम आये है द्वार तुम्हारे तुम्ही उद्धार करो दुःख हारे
सुनलो इस दास की पुकार सदगुरु एक तुम्ही आधार.

.....

8 टिप्‍पणियां:

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

Sadguru..Sachcha Aadhar hai.
inake bina jiwan bekaar hai.

sundar vichar...badhayi..

ओम आर्य ने कहा…

नमन करता हूँ आपके इस रचना को ...........

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत सुंदर और आत्मिक शांति प्रदान करती पोस्ट.

रामराम.

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

वाह्! अति सुन्दर इस भक्तिमय रचना के लिए साधुवाद।
जै गुरूदेव्!!

seema gupta ने कहा…

हम आये है द्वार तुम्हारे तुम्ही उद्धार करो दुःख हारे
सुनलो इस दास की पुकार सदगुरु एक तुम्ही आधार.
" हर दिल की यही पुकार , बडी ही सुकून भरी रचना"

विनय ‘नज़र’ ने कहा…

अत्यंत सुन्दर
---
मानव मस्तिष्क पढ़ना संभव

आदित्य आफ़ताब "इश्क़" ने कहा…

प्रणाम सदगुरु . नमन .............आपको भी नमन महेन्द्र जी

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

खोजा फिरा संसार सदगुरु एक तुम्ही आधार सदगुरु
कैसा भी तारन हारा मिले न जब तक शरण सहारा.


wo jo bhi hjai....
...wo hi tab tha wo hi ab hai....

...wo hi rahegaa !!


.... is SAMAYCHAKRA main

NIRANTAR........