29.10.09

माइक्रो पोस्ट : सत् प्रेरणा और दुष्प्रवृत्तियाँ प्रत्येक मनुष्य के अंतःकरण में छिपी रहती है...

माइक्रो पोस्ट : सत् प्रेरणा प्रत्येक मनुष्य के अंतःकरण में छिपी रहती है और दुष्प्रवृत्तियाँ भी उसी के अन्दर होती है . अब यह उसकी अपनी योग्यता बुद्धीमत्ता और विवेक पर निर्भर करता है की वह अपना मत देकर जिसे चाहे उसे विजयी बना दे .

11 टिप्‍पणियां:

M VERMA ने कहा…

सटीक बात

संगीता पुरी ने कहा…

सत्‍य वचन !!

महफूज़ अली ने कहा…

bilkul sahi kaha aapne...

Udan Tashtari ने कहा…

सत्य वचन, पंडित जी.

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' ने कहा…

Pandit jee sahee kahaa ""

डॉ टी एस दराल ने कहा…

बिलकुल सही कहा.

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

सत्य और सुंदर बात...धन्यवाद

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर वचन,

परमजीत बाली ने कहा…

सही बात।

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

पूर्णत: सत्य वचन्!!

वन्दना ने कहा…

waah kya baat kahi hai...........sargarbhit .