23.1.10

ब्लागर पच्चीसी : खूसट ब्लॉगर की आत्मा और ब्लागर

एक गहरी अँधेरी रात में सुनसान श्मशान घाट में एक ब्लॉगर पहुंचा और पेड़ से एक खूसट ब्लॉगर का शव उतारा और अपने कंधे पर लादकर उसे लेकर चल पड़ा . रास्ते में ब्लॉगर की आत्मा ने ब्लॉगर से कहा - पहले मेरे सवाल का जबाब दो वरना तुम्हारा सर टुकडे टुकडे हो जायेगा....ब्लॉगर हँसता कब है और रोता कब है ?

ब्लॉगर ने उत्तर दिया - जब ब्लॉगर अपना पहला ब्लॉग बनाता है और उसे देखकर बहुत खुश होता है और जब वह अपने ब्लॉग पर पहली पोस्ट डालता है तो वह अपने आपको किसी तुर्रम खाँ से कम नहीं समझता . रातोरात लेखन की दुनिया में प्रसिद्दी पाने के सपने देखने लगता है और अपने आपको बहुत बड़ा लेखक और साहित्यकार समझने लगता है भलाई वह यहाँ वहां से दूसरे की रचनाओं को चुराकर लिखता हो . जब ब्लागर को अधिक टिप्पणी मिलती हैं तो वह उन्हें पढ़ पढ़कर बहुत खुश होता है .

ब्लागर उस समय भी बहुत खुश होता है जब वह अपनी पोस्ट का आंकड़ा बढ़ता देखता है याने सैकड़ा दो सौ पांच सौ पोस्ट ..... जब सैकड़ा भर पोस्ट हो जाती है तो वह सेंचुरियन के नाम से अपने आपको सचिन तेंदुलकर से कम नहीं समझता है जिसने जैसे सैकड़ा मार दिया हो . जब किसी ब्लॉगर की पोस्ट ब्लॉग से सीधे अखबारों में प्रकाशित होती है तो बेचारा फ़ोकट में बहुत खुश हो जाता है भलाई अखबार वाले उसे धिलिया न दे रहे हों .

हाँ तो ये भी सुन लो ब्लागर रोता कब है ....जरा ध्यान से सुनना ... जब कोई ब्लॉगर प्रतिष्ठा के शीर्ष पर बैठ जाता है और घमंड के कारण उसकी कलम यहाँ वहां भटकने लगती है और वह उल जुलूल लिखने लगती है . वह रावण की तरह सबकी खिल्लियाँ उड़ाने लगता है वह अमर्यादित हो जाता है . एक समय यह आता है की वह कूप मंडूक की तरह हो जाता है और अकेला पड़ जाता है फिर उसे कोई पूछने वाला नहीं होता है तब वह अपने माथा ठोककर अपनी करनी और कथनी पर विचार करता हुआ रोता है . जब वह खूब कलम घसीटी करता है पर उसकी पोस्ट को पढ़ने वाले नहीं मिलते हैं ब्लॉगर तब भी खूब रोता है .

ब्लॉगर की आत्मा ने ब्लॉगर को एक झटका मारा और कहा हे ब्लॉगर तुम ठीक कहते हो अरे तुम तो ब्लागजगत के कोई घिसे पिटे जोद्धा दिखाई दे रहे और हा हा हा कहते हुए आसमान की और उड़ गया .

रिमार्क - ब्लागर पच्चीसी आगे भी जारी रहेगी ...

13 टिप्‍पणियां:

ललित शर्मा ने कहा…

मिसिर जी-आज तो जोरदार धारदार कटाई की है।
मजा आ गया पढ कर्।
शुक्रिया।

Suman ने कहा…

nice

Yashwant Mehta ने कहा…

यह कौन ब्लोग्गर हैं भाई जो ब्लोग्गर आत्मा को तडपाने पहुच गया....

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

vaah.

Gagan Sharma, Kuchh Alag sa ने कहा…

पर इतनी अंधेरी रात में वहां भेजने वाले तांत्रिक का नाम क्या है भाई?

राज भाटिय़ा ने कहा…

किसी ब्लंगर के पास इतना समय केसे बच गया जो शमशान मै भी पहुच गया, हमारे पास तो खाना खाने का समय भी नही... काश यम राज जी को भी यह ब्लांगर की लत लग जाये तो कोई भी ना मरे
आप का लेख पसंद नही, बहुत ही पसंद आया, मजे दार

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

बहुत खूब!

महफूज़ अली ने कहा…

इतना अच्छा पचीसा... मन खुश हो गया...

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

अब इतना सच सच बोलेंगा तो शव तो उड ही जायेगा ना,पर बहुत ही गजब की लिखी आपने. आनंद आगया.

रामराम.

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi ने कहा…

वेताल तक को उड़ा देने वाला सच...


और तब विक्रमादित्‍य ने कहा कि बीती ताहि बिसार दे आगे की सुधि ले...


या किसी और ने कहा होगा, अभी पूरा याद नहीं है :)

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

वाह्! बहुत ही उम्दा......
पढकर आनन्द आ गया!!!

Udan Tashtari ने कहा…

इत्ती भारी चोट....:) जारी रखिये पचीसी..मस्त है.

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' ने कहा…

jai ho sa'b ji
kya dhasoo post chhape ho
maza aa gaya