4.1.09

व्यंग्य : आओ ब्लॉगर भाइओ : पजामा गेम की तर्ज पर पेंट चड्डी बनियान गेम खेले

आज सुबह सुबह अखबार पढ़ रहा था तो नजरे ठिठक गई . लेडीज काँलम में लिखा था ऑनली फार लेडीज . यह पढ़कर मेरी तीसरी इन्द्री सक्रिय हो गई सोचा जरुर की फंडे वाली चीज होगी वैसे आदमियो का मन महिलाओं के बारे में क्या खास लिखा है पढ़ने को उत्सुक हो जाता है .
अपुन ने भाई कुनकुनी धुप का आनंद लेते हुए पढ़ना शुरू किया जो पढ़ा सो आपकी नजरे इनायत कर रहा हूँ और आप सभी को पढ़ा हुआ बाँट रहा हूँ.
पाजामा पार्टी

पाजामा पार्टी की थीम दूसरी पार्टियो से कुछ हटकर होती है . इसमे उपस्थित महिलाओं को यह लगे कि जिंदगी ख़ूबसूरत है और बहारो से लदी फदी है . पाजामा पार्टी के बारे में आप यह समझ रहे होंगे कि इस पार्टी में बेहूदी हरकत होती होगी . इस पार्टी में पाज्मे नही पहिने जाते . पाजामा कही का आदि आदी .... क्योकि हमारे देश भारत में पजामे को पजामे की संज्ञा दी जाती है .
इस पार्टी की शुरुआत अमेरिका में हुई . इस पार्टी का चलन अमेरिका में काफी पुराना है . ये पार्टियाँ होटल रिसोर्ट आदी में आयोजित की जाती है . इन पार्टियो का माहौल बिंदास होता है . इन पार्टियो में महिलाओं को न रोटी ठोकने की दिक्कत और न घर की झंझट एक प्रकार से कोई टेंशन नही होता है . इन पार्टियो में गेम्स नाच गाना किटी पार्टी सैर सपाटा और खाने पीने का भरपूर इंतजाम रहता है .
खाने पीने की बात पे मुंह में पानी आ गया वाह साब मै भी सम्मिलित होता .
आगे ......इन पार्टियो में महिलाए सिर्फ़ पर्सनल बातें आपस में बांटती है . खूब खाती पीती है खूब होहल्ला करती है फ़िल्म देखती है . मस्ती करती है यानि की कुल मिलकर हंगामा और मोजा मोजा करती है , अलग अलग आयु वर्ग की महिलाए अलग अलग ग्रुप में पार्टियाँ करती है यानि की कुल मिलाकर जिसकी पटरी जिस से सेट हो जाए ..इसमे सिर्फ़ महिलाये ही शामिल होती है
युवतियां रूटीन वर्क ऑफिस वर्क बोरियत और एकांकीपन दूर करने करने के लिए तनावमुक्त होने की इस तरह की पार्टियाँ करती है . इस प्रकार की पाटियो के बढ़ते हुए चलन अब युवको और बुजुर्गो के लिए कौतुहल साबित हो रहे है .
अब आये मुद्दे की बात पर
ऑनली फार जेंट्स
: आओ ब्लॉगर भाइओ :ऑनली फार जेंट्स : : आओ ब्लॉगर भाइओ : पजामा गेम की तर्ज पर पेंट चड्डी बनियान गेम खेले

ये पढ़कर मेरे मन में एक विचार आया है कि हम ब्लॉगर भाई भी अपने रूटीन वर्क ऑफिस वर्क और कई कामो से लगातार बोर हो जाते है . घर का भार साल भर ढोते ढोते तनावग्रस्त हो जाते है . एसा लगता है कि अब बड्डे भाग लो और कही दूर वनवास चले जाओ.
फ़िर लगता है कि हमें अपने दायित्वों का निर्वहन करना है ......फ़िर टट्टू की तरह जुट जाते है और अति बोरियत महसूस करते है तो अब भागने की जरुरत नही है अपुन ब्लॉगर भाई भी तनाव दूर करने के लिए एकजुट होकर पजामा गेम की तर्ज पर पेंट चड्डी बनियान गेम खेले .
इसमे सिर्फ़ पुरूष शामिल होंगे . नाचेंगे कूदेंगे खायेंगे पियेंगे और ऐश करेंगे क्या . खूब होहल्ला करेंगे . इस गेम में कोई अपनी व्याहता(wife) को साथ लेकर नही आवेगा जिससे ९० परसेंट तक तनाव निश्चित दूर होने की गारंटी रहेगी.रिमार्क - हे भगवान अब दुनिया में क्या देखना बदा है ... हा हा हा.

चलो २0०९ के कुछ रोचक फोटो ..अखबार से साभार



गुरुकुल के छात्र पढ़ाई छोड़कर अब टार्जन बनने का अभ्यास कर रहे है.
२१ वी सदी में भी पानी कुछ इस तरह से मिल रहा है.

समाचार के साथ कुछ अपने विचार जोड़कर व्यंग्य रूप देने का छोटा सा प्रयास किया है.
महेंद्र मिश्रा
जबलपुर.

9 टिप्‍पणियां:

Amit ने कहा…

बहुत सही रही ये पजामा पार्टी.....

राज भाटिय़ा ने कहा…

महेन्दर जी, फ़ोटू तो साफ़ नही दिख रहे, ओर जो दिख रहे है उस मै तो लगता है लुंगी पार्टी होगी,
आप का लेख बहुत अच्छा लगा, लेकिन नारियो से पंगा.... ना बाबा ना.
धन्यवाद

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

ये पार्टियाँ बचपन में बहुत की हैं जी।

डॉ .अनुराग ने कहा…

aha itni thnd me....yahan to kulfi jam jaayegi ji...

सचिन मिश्रा ने कहा…

Bahut badiya.

अनूप शुक्ल ने कहा…

जाड़ा बहुत जोर है। पोस्ट के चित्र भी धुंधलाये हैं। लेकिन अच्छा है लेख।

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

अजी अगर ये पार्टियां पजामा,चड्डी,बनियान तक ही सीमित रहें तो भी गनीमत समझिए. वर्ना आज के जमाने में तो कुछ भी संभव है.

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

बेशक... बेशक... मैं वत्स जी से सहमत हूं....

Zakir Ali 'Rajneesh' (S.B.A.I.) ने कहा…

वाह, क्‍या गेम है। पर अफसोस कि वहॉं हम नहीं हैं।