15.1.09

व्यंग्य मच्छर नामा : मेरी कर्णप्रिय भुनुर भुनुर आवाज सुनो.

मै हूँ मच्छर जैसा आप सभी को मालूम है कि मै गलियो कूंचों या सीधे ये कहे कि मै सभी जगह का बेताज बादशाह हूँ . अभी तक नेट पर अपने तरह तरह की मेरे बारे में कविताएं व्यंग्य पढ़े पर मै आज आपको अपनी आवाज की गति के बारे में जानकारी दे रहा हूँ . मेटिंग के पहले आपको आपके कान के पास में मै और मेरी मादा (पत्नी) भुनुर भुनुर मधुररम गीत जो आपके कानो को अप्रिय लगते है ...... सुनाया करते है .





आप क्या भुनुर भुनुर गीत के बारे में जानते है असल में यह मच्छरों का प्रेम गीत है . जब मै और मेरी मादा एक साथ इकठ्ठे होते है तब हम दोनों मिलकर प्रेम गीत गाते है इसी को भुनुर भुनुर गीत कहते है . जब हम दोनों कुछ ही सेंटीमीटर की दूरी पर होते है तो एक दूसरे को पटाने के लिए कर्णप्रिय संगीत भुनुर भुनुर कर पैदा करते है और एक दूसरे से बातचीत करते है . यदि मै भुनुर भुनुर न करूँ तो रानी पटेगी कैसे ?



मेरी मैडम मच्छर के पंख फडफडाने से जितनी ध्वनि होती है उससे भी तेज गति की आवाज अपने कंठ से प्रेम विरह में पीड़ित होकर निकलती है . मेरी मैडम मच्छर एक सेकेण्ड में ४०० हर्टज की गति से आवाज निकालती है और मै एक सेकेण्ड में ६०० हर्ट्स की गति से आवाज निकालता हूँ . अब मेरे सुनने वाले अंगो में विशेष प्रकार के भाई लोगो ने यंत्र फिट कर दिए है और मेरी भुनुर भुनुर आवाज विशेष माइक्रोफोन से सुनी गई है .

अंत में दो टूक

यदि आप जल्दी जल्दी खाते है और इंतजार करते करते जल्दी उदास हो जाते है . हर काम के लिए सदा हडबडी करते है तो सावधान आपको हाई ब्लड प्रेसर या दिल का दौरा पड़ सकता है . अपनी आदतों में सुधार लाये और अपनी जीवन की दिनचर्या में परिवर्तन करे जो आपको रोगों से दवाओं से निजाद दिला सकती है .

हरी ॐ

12 टिप्‍पणियां:

Mired Mirage ने कहा…

बढ़िया जानकारी दी है। मुझे दिल के दौरे का कोई भय नहीं। धीरे धीरे रे मना धीरे सबकुछ ( या कुछ भी नहीं )मेरा प्रिय वाक्य है।
घुघूती बासूती

विनय ने कहा…

बहुत बढ़िया लेख

---
आप भारतीय हैं तो अपने ब्लॉग पर तिरंगा लगाना अवश्य पसंद करेगे, जाने कैसे?
तकनीक दृष्टा/Tech Prevue

seema gupta ने कहा…

" wah, bhut sunder or upyogi jankari ke liye aabhar"

Regards

अभिषेक ओझा ने कहा…

इन मच्छर महाराज से मुक्ति का उपाय भी बताते. :-)

Nirmla Kapila ने कहा…

bahut rochak aur upyogi jaankari hai

राज भाटिय़ा ने कहा…

महेन्दर जी बहुत सुंदर बात बता दी आप ने धन्यवाद

Gyan Dutt Pandey ने कहा…

सही लिखा। हरि ऒंम!

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

आप के यहाँ कम हों तो खबर करिएगा हमने इन के निर्यात की ऐजेंसी खोली है।

PREETI BARTHWAL ने कहा…

महेंद्र जी नमस्कार, बहुत ही बढ़िया जानकारी दी है आपने।

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" ने कहा…

क्या बात है भई !
आज तो टॉप गेयर

प्रकाश बादल ने कहा…

बहुत अच्छा|

mamta ने कहा…

रोचक अंदाज के साथ महत्त्वपूर्ण सीख ।

यहाँ मच्छर गाते नही है बिल्कुल खा जाते है । :)