22.7.09

एक हितोपदेश कहानी " आपस में कभी बैर न करो ?

सुन्द और उपसुन्द नाम के दो महाबली राक्षस थे उन्हें अपनी शक्ति पर बड़ा घमंड था . वे तीनो लोको का राजा बनना चाहते थे इसीलिए उन्होंने भगवान शंकर की घोर तपस्या की . भगवान भोलेनाथ प्रसन्न हो गए और उन्होंने राक्षसों से वर मांगने को कहा . राक्षसों ने भगवान शंकर की पत्नी को वर में मांग लिया . भगवान यह सुनकर आगबबूला हो गए फिर भी वचनवद्ध थे . वचन के अनुसार उन्हें वर देना ही था तो उन्होंने अपनी सुन्दर पार्वती राक्षसों को दे दी .

सुन्दर पार्वती को पाकर उन राक्षसों की बुद्धि मारी गई और वे पार्वती को लेकर आपस में झगड़ पड़े. राक्षसों को ठिकाने लगाने के उद्देश्य से भगवान शंकर ने एक ब्रामण का रूप रख लिया और उनके पास पहुँच गए . राक्षसों ने भगवान शंकर को अपना बिचोलिया बना लिया. दोनों भाई अपने तप और बल की श्रेष्ठता को लेकर उतावले थे .

ब्रामण ने समझाया तुम लोग आपस में द्वंद युद्ध कर लो जो बलवान होगा पता लग जावेगा . दोनों राक्षसों ने गदा उठा ली और आपस में भिड गए और आपस में लड़ भिड़कर मारे गए . भगवान भोलेनाथ ने अपना रूप प्रगट किया तो पार्वती जी खुश हो गई . शंकर जी ने पार्वती जी की और देखा तो पार्वती जी ने मुंह फेर लिया . शंकर जी ने पार्वती जी से कहा की गलती मेरी थी जो मैंने उन्हें बिना सोचे समझे वर दे दिया .

शिक्षा इस कहानी से यह मिलती है की हमें आपस में कलह नहीं करना चाहिए.और उड़नतश्तरी जी की टीप के अनुसार यह शिक्षा मिलती है वगैर सोचे समझे हमें वर नहीं देना चाहिए.

10 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

मुख्य शिक्षा:

बिना सोचे वर नहीं देना चाहिये. :)

अजय कुमार झा ने कहा…

sundar kahaanee mahender bhai

asli saar to sameer jee ne bata hee diya...

हिमांशु । Himanshu ने कहा…

शिव जी का कोई भरोसा नहीं । यूँ ही सब कुछ बिना सोचे समझे किये जाते हैं । राक्षसों को वर देने में तो उनका कोई सानी नहीं । वो तो राक्षस थोड़े मूढ़ मति हुआ करते थे अन्यथा शिव जी का क्या हाल होता, पता नहीं ।

mehek ने कहा…

sahi baat hai

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

सही है.

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत ज्ञानदायक शिक्षा.

रामराम.

"अर्श" ने कहा…

satya wachan huzur.....



arsh

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

bilkul ...
ye to prerak prasang tha...

To Bacchon! humein is kahani se kya shiksha milti hai?

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

blog main kabhi kabjhi aata hoon aur poora padh ke hi chain milta hia...

//har ek post pe alag alag comment tipiya diya hai...

...aabhar!!

आदित्य आफ़ताब "इश्क़" ने कहा…

हैं मां पार्वती ,भोले भंडारी को तनिक दुनिया-दारी सिखलाओ ज़रा ....................