2.3.09

खुद की तकदीर अपने हाथो ही बनाना पड़ती है..

कोई लकीर न मिली कभी हमें खुशनसीबी की
खुद अपना हाथ हमने कई बार गौर से देखा है..

मै अक्सर तन्हाइओ में जाकर तुझे खोजता हूँ
कही मेरे हाथो की लकीरों में नाम तेरा होगा..

गर देखना है तेरा मुक़द्दर दहलीज के बाहर
तू खुद देख तकदीर खुले आसमाँ तले बसती है..

वो किस तरह कैसे मै क्या कहूं और क्या लिखूं
मेरी तकदीर न जाने कैसे कैसे खेल खेल गई है..

अजीज दोस्त भी नहीं रहते है तकदीर के भरोसे
खुद की तकदीर अपने हाथो ही बनाना पड़ती है..

गर आदमी की तकदीर आदमी के हाथो में होती
हर आदमी खुद को खुदा कहलवाना पसंद करता..

14 टिप्‍पणियां:

mehek ने कहा…

bahut sahi,sundar rachana,khas kar akhari 4 lines lajawab

संगीता पुरी ने कहा…

अजीज दोस्त भी नहीं रहते है तकदीर के भरोसे
खुद की तकदीर अपने हाथो ही बनाना पड़ती है..
बहुत सुदर ... एक ज्‍योतिषी होने के बावजूद मै भी यही मानती हूं...शायद आपको भी यही पक्तियां अधिक अच्‍छी लगी ... तभी तो अपने शीर्षक में यही डाल रखा है।

अनिल कान्त : ने कहा…

साहब आपने तो बहुत कुछ कह दिया चन्द शब्दों में .... बहुत अच्छी रचना

शोभा ने कहा…

अजीज दोस्त भी नहीं रहते है तकदीर के भरोसे
खुद की तकदीर अपने हाथो ही बनाना पड़ती है..

गर आदमी की तकदीर आदमी के हाथो में होती
हर आदमी खुद को खुदा कहलवाना पसंद करता..
बहुत बढ़िया लिखा है।

मेरे लफ्ज़ ने कहा…

bahut sundar rachna hai aapki. mujhe isi se milta hua ik sher yad aa raha hai.
apne hatho ki lakeero ko gor se dekha hai faraz
kaise nikal jate hain lakeero se lakeero me rahne wale.
agar kabhi waqt mil jae to mera blog b dekhen.

Shamikh Faraz ने कहा…

aapki nazm bahut achhi hai janab. aapse aik guzarish hai meri agar aapne kuchh prerna se bhara likha ho to mere blog ke lie bhej den. aur han aik bar blog zaroor dekhen. shukriya

Science Bloggers Association ने कहा…

मै अक्सर तन्हाइओ में जाकर तुझे खोजता हूँ
कही मेरे हाथो की लकीरों में नाम तेरा होगा..

गर देखना है तेरा मुक़द्दर दहलीज के बाहर आ
तू खुद देख तकदीर खुले आसमाँ तले बसती है..

अजीज दोस्त भी नहीं रहते है तकदीर के भरोसे
खुद की तकदीर अपने हाथो ही बनाना पड़ती है..

अच्‍छे शेर कहे हैं, बधाई।

vandana ने कहा…

bahut khoobsoorat sher aur har sher mein ek sandesh.........waah!
sach kaha hai aapne hathon ki lakeeron mein kya rakha hai ,taqdeerein banani padti hain.

kumar Dheeraj ने कहा…

तकदीर का फसाना है फिल्मी गीत आप जरूर सुने होगे । हाथो की लकीर के बारे में तमाम किस्से और ऐतिहासिक कहानिया पढ़ी है जो नेपोलियन बोनापाटॆ तक की है । इसलिए हाथ की लकीर की औऱ से किसी तरह भ्रमित नही हूं आपने तो सच ही कहा है कि हाथो की लकीर अगर सच बोलने लगे तो आदमी फिर खुदा से बढ़कर हो जाए । मै तो यह जानता हू कि हाथ की लकीर खुद बनती है औऱ बिगड़ती है धन्यवाद

राज भाटिय़ा ने कहा…

गर आदमी की तकदीर आदमी के हाथो में होती
हर आदमी खुद को खुदा कहलवाना पसंद करता..
महेन्दर जी बहुत ही खुब .
धन्यवाद

ज्ञानदत्त । GD Pandey ने कहा…

शीर्षक कैच करता है और पोस्ट भी!

अल्पना वर्मा ने कहा…

waah! bahut hi sundar gazal..

'khud ki takdeer banani padati hai....'

bahut khuub!

Abhishek ने कहा…

गर देखना है तेरा मुक़द्दर दहलीज के बाहर आ
तू खुद देख तकदीर खुले आसमाँ तले बसती है..
अच्छी लगी कविता आपकी.

Saaz Jabalpuri ने कहा…

कोई लकीर न मिली कभी हमें खुशनसीबी की
खुद अपना हाथ हमने कई बार गौर से देखा है..

mishra ji,
bahut khoob. meri shubhkaamnaye