27.8.09

जबसे लिखने बैठे चिठ्ठी हम कलम खुद बा खुद रुक जाती है

.................
जबसे लिखने बैठे चिठ्ठी हम कलम खुद बा खुद रुक जाती है
दिल की बात लिखते लिखते कलम शर्म से खुद रुक जाती है.

मै तुमको यह चिठ्ठी लिखू मेरी इस चिठ्ठी में मेरी धड़कन है
यह लिखते समय फ़िक्र नहीं है इस चिठ्ठी में तेरी कोरी यादे है.

छोड़ गए जबसे इस दुनिया को तुम चिठ्ठी लिखना भूल गए
तुम्हारे जबाब का इंतजार करते करते मेरी पलकें झपक गई .


प्राइवेट डायरी..से
महेंद्र मिश्र .

13 टिप्‍पणियां:

Mithilesh dubey ने कहा…

उम्दा व लाजवाब रचना।

Udan Tashtari ने कहा…

वहुत खूब!

आदित्य आफ़ताब "इश्क़" ने कहा…

कॉमेंट्स लिखते-लिखते आपकी कलम को सलाम ........

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत सही.

रामराम.

बवाल ने कहा…

अरे क़लम को ना रोकिएगा साहब। आपकी क़लम तो बहुतों को साँसें दिया करती है। चलने दीजिए।

AlbelaKhatri.com ने कहा…

वाह भाई साहेब............
चिट्ठी का नया तेवर गज़ब का लगा..........
भावुक करने वाली इस रचना को मेरा
शत शत वन्दन !

राज भाटिय़ा ने कहा…

अरे वाह हाम आप की कलम को सलाम करते है.

vandana ने कहा…

badhiya rachna.

Ashok Pandey ने कहा…

बहुत खूब। आपकी निजी डायरी में भी अनमोल मोती बिखरे हैं।
देसी एडीटर
खेती-बाड़ी

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

मै तुमको यह चिठ्ठी लिखू मेरी इस चिठ्ठी में मेरी धड़कन है
यह लिखते समय फ़िक्र नहीं है इस चिठ्ठी में तेरी कोरी यादे है....

Sir lagta hai bahut purani diary rahi hogi.
bade dino baad apke blog main aaya ,
agar net ne saath diya to lambe samay tak rehne ki iccha hai.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

लाजवाब रचना ...... Mjaa aa gaya Mahendr ji ...

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

वहुत खूब!लाजवाब रचना..
Dil Se Badahyi...

लता 'हया' ने कहा…

shukria. good thoughts.